ऐसा ही होता है बदमाश का अंत, कोई नहीं पहुंचा शव उठाने

कल्पना चावला का मोर्चरी हाउस। कुख्यात बदमाश जबरा का शव यहीं पड़ा है। अकेला। गोलियों से छलनी। बाहर पांच पुलिस वाले। वह भी सुरक्षा की दृष्टि से खड़े थे। कोई …

Read More